fbpx

Best Christmas Songs of All Time

Aarambh Hai Prachand Lyrics in Hindi & English- Gulaal | आरंभ है प्रचंड

Rate this post

Aarambh Hai Prachand Lyrics Introduction

Looking for Aarambh Hai Prachand Lyrics in Hindi & English along with Video song on Youtube? Here is the right choice. Piyush Mishra gives a stirring performance of the song “Aarambh Hai Prachand,” which is included in the film “Gulaal.” This song prompts listeners to engage in deep introspection. Piyush Mishra is the one who penned the lyrics and given music for this song, which focuses on the issue of social and political upheaval.

This song is a commentary on the political and social atmosphere of India and how it affects the common man. It was written by Indian musician Amit Trivedi. The song is an unforgettable and potent representation of the difficulties and aspirations of the common man because to its emotionally charged singing and potent lyrical content.

Aarambh Hai Prachand Lyrics
Aarambh Hai Prachand Lyrics

The song’s lyrics provide a profound analysis of the current political and social atmosphere in India. It discusses the challenges and aspirations of the average person and how such things are affected by the acts of those in power. The lyrics are able to connect with the audience on a personal level since they communicate a sense of fury as well as frustration and hope. In addition to this, the song discusses the necessity of change as well as the capacity of the people to bring about this change. It is a song that has been able to relate with people’s emotions, and it is still recognised as being one of the most powerful songs of all time.

Aarambh Hai Prachand Lyrics Details

SingerPiyush Mishra,
MusicPiyush Mishra,
LyricPiyush Mishra,
MovieGulaal (2009),
Aarambh Hai Prachand Lyrics Details

Aarambh Hai Prachand Lyrics in Hindi

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
[आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो] x २

आरंभ है प्रचंड..

मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है

मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है

विश्व की पुकार है
ये भागवत का सार है
कि युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है
कौरोवों की भीड़ हो या
पांडवों का नीड़ हो
जो लड़ सका है वो ही तो महान है

जीत की हवस नहीं
किसी पे कोई वश नहीं
क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यूँ डरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड..

वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
या की पुरे भाल पे जला रहे विजय का लाल
लाल यह गुलाल तुम ये सोच लो
रंग केशरी हो या मृदंग केशरी हो
या कि केशरी हो ताल तुम ये सोच लो

जिस कवि की कल्पना में ज़िन्दगी हो प्रेम गीत
उस कवि को आज तुम नकार दो
भीगती मासों में आज, फूलती रगों में आज
आग की लपट का तुम बघार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

[आरंभ है प्रचंड..] x ३

Latest Trending Hindi Song Lyrics

Aarambh Hai Prachand Lyrics English 

Aarambh hai prachand bol mastakon ke jhund
aaj jung ki ghadi ki tum guhaar do

[aarambh hai prachand bol mastakon ke jhund
aaj jung ki ghadi ki tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ik dhanush ke baan pe utaar do] x 2

aarambh hai prachand

mann kare so praan de
jo mann kare so praan le
wahi toh ek sarvshaktimaan hai
mann kare so praan de
jo mann kare so praan le
wahi toh ek sarvshaktimaan hai

vishv ki pukaar hai
yeh bhaagwat ka saar hai
ki yuddh hi veer ka pramaan hai
kauravo ki bheed ho ya
paandavo ka neerd ho
jo lad saka hai
woh hi toh mahaan hai

jeet ki hawas nahi
kisi pe koyi vash nahi
kya jindagi hai thokaro pe maar do
maut ant hai nahi toh maut se bhi kyun darein
ye jaake aasmaan mein dahaad do

aarambh hai prachand bol mastakon ke jhund
aaj jung ki ghadi ki tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ik dhanush ke baan pe utaar do

aarambh hai prachand..

woh daya ka bhaav ya ki shaurya ka chunaab
ya ki haar ka woh ghabh tum yeh soch lo
woh daya ka bhaav ya ki shaurya ka chunaab
ya ki haar ka woh ghabh tum yeh soch lo
yaa ki pure bhaal par jala rahe vijay ka laal
laal yeh gullal tum soch lo

rang kesari ho ya mridang kesari ho
ya ki kesari ho taal tum yeh soch lo

jis kavi ki kalpana mein jindagi ho prem geet
uss kavi ko aaj tum nakaar do
bhigati mason mein aaj, phulati ragon mein aaj
jo aag ki lapat ka tum bakhaar do
aarambh hai prachand bol mastakon ke jhund
aaj jung ki ghadi ki tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan aaj
ik dhanush ke baan pe utaar do

[aarambh hai prachand..] x 3

Aarambh Hai Prachand Lyrics Meaning in Hindi

मुहावरा “आरंभ है प्रचंड” एक हिंदी वाक्यांश है जिसका अनुवाद “शुरुआत भयंकर है” या “शुरूआत शक्तिशाली है” है। यह बॉलीवुड फिल्म “गुलाल” के एक लोकप्रिय हिंदी गीत “आरंभ है प्रचंड” की एक पंक्ति है। गीत पीयूष मिश्रा द्वारा लिखा गया है और भारतीय फ्यूजन बैंड हिंद महासागर के राहुल राम और अमित किलम द्वारा रचित है। गीत के बोल साहस और दृढ़ संकल्प की भावना जगाते हैं, लोगों से उठने और अपने कारण के लिए लड़ने का आग्रह करते हैं।

गीत की पहली पंक्ति, “आरंभ है प्रचंड बोल मस्तकों के झुंड” का अर्थ है “शुरुआत भयंकर है, बोलो, ओ सिरों की भीड़।” लाइन एक कॉल टू एक्शन है, जिसमें लोगों से बोलने और कार्रवाई करने का आग्रह किया गया है। “प्रमुखों की भीड़” उन लोगों के समूह को संदर्भित करती है जो अपने कारण से एकजुट हैं और इसके लिए लड़ने के लिए तैयार हैं। मुहावरा “बोल मस्तकों के झुंड” विपरीत परिस्थितियों में सामूहिक कार्रवाई और एकता के महत्व पर जोर देता है।

अगली पंक्ति, “आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो” का अर्थ है “आज, युद्ध की इस घड़ी में, अपना सब कुछ दे दो।” यह रेखा हथियारों के लिए एक आह्वान है, जिसमें लोगों से उनके विश्वास के लिए लड़ने का आग्रह किया जाता है। वाक्यांश “जंग की घड़ी” एक लड़ाई के महत्वपूर्ण क्षण को संदर्भित करता है, और “गुहार दो” का अर्थ है बलपूर्वक हमला करना या हमला करना।

निम्नलिखित पंक्ति, “आन बान शान या कि जान का हो दान” का अर्थ है “चाहे वह सम्मान, साहस, या जीवन का बलिदान हो।” रेखा इस बात पर जोर देती है कि जिस कारण से कोई लड़ रहा है वह खुद से बड़ा है। यह व्यक्तिगत लाभ से अधिक किसी चीज के लिए लड़ने के बारे में है।

अगली पंक्ति, “आज इक धनुष के बन पे उतार दो” का अर्थ है “आज, धनुष से तीर चलाओ।” रेखा कार्रवाई करने और किसी के कारण लड़ने के लिए एक रूपक है। “तीर” किसी के कार्यों के पीछे बल का प्रतिनिधित्व करता है, और “धनुष” उन्हें पूरा करने के लिए आवश्यक ताकत का प्रतिनिधित्व करता है।

“आरंभ है प्रचंड” वाक्यांश की पुनरावृत्ति एक मजबूत और शक्तिशाली शुरुआत के महत्व पर जोर देती है। यह याद दिलाता है कि किसी भी लक्ष्य की ओर पहला कदम अक्सर सबसे चुनौतीपूर्ण होता है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण भी होता है।

अगला श्लोक, “मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो प्राण ले, वही तो एक सर्वशक्तिमान है” का अर्थ है “अपना जीवन उसे दो जो तुम्हारा दिल चाहता है, जो कोई भी अपना जीवन देता है, वह सर्वशक्तिमान हो जाता है।” यह पद इस बात पर जोर देता है कि जब कोई किसी कारण के लिए जुनूनी होता है, तो वे अजेय हो जाते हैं। वाक्यांश “सर्वशक्तिमान है” का अर्थ है “सर्वशक्तिमान,” और कविता किसी के दिल का अनुसरण करने की शक्ति पर जोर देती है।

निम्नलिखित पंक्तियाँ, “विश्व की पुकार है, ये भागवत का सार है, कि युद्ध ही वीर का प्रमाण है” का अर्थ है “यह दुनिया की पुकार है, यही भगवद गीता का सार है, वह युद्ध एक योद्धा का प्रमाण है” ” पंक्तियाँ भगवद गीता का उल्लेख करती हैं, एक प्राचीन भारतीय पाठ जो कर्तव्य और कर्म के महत्व पर जोर देता है। यह पद इस बात पर प्रकाश डालता है कि जो विश्वास करता है उसके लिए लड़ना एक सच्चे योद्धा की निशानी है।

अगली पंक्तियाँ, “कौरवों की भीड़ हो या पांडवो का नीरद हो, जो लड़ सका है वो ही तो महान है” का अर्थ है “कौरवों की भीड़ हो या पांडवों की शक्ति, जो भी लड़ता है वह सच्चा नायक है।” ये पंक्तियाँ बताती हैं कि किसी की पहचान या सामाजिक प्रतिष्ठा कोई मायने नहीं रखती।

“जीत की हवा नहीं, किसी पे कोई वश नहीं” का अर्थ है कि जीत की कोई इच्छा नहीं है और किसी और पर कोई नियंत्रण नहीं है। गीत हमें बिना किसी स्वार्थी इच्छाओं या दूसरों पर हावी होने की आवश्यकता के बिना लड़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

“क्या जिंदगी है ठोकरो पे मार दो” का मतलब है कि अगर हमें लगातार पीटा जा रहा है तो यह कैसा जीवन है। गाने के बोल सुझाव देते हैं कि हमें अपनी चुनौतियों से ऊपर उठना चाहिए और वापस लड़ना चाहिए।

“मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यों डरें, ये जाके आसमान में दहाड़ दो” का अर्थ है कि मृत्यु अंत नहीं है, तो इससे डरना क्यों? इसके बजाय, गीत हमें शेर की तरह दहाड़ने और आसमान को जीतने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

“वो दया का भाव या कि शौर्य का चुनाव, या कि हार का वो घब तुम ये सोच लो” का अर्थ है कि किसी को करुणा या साहस पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, और हार से नहीं डरना चाहिए। गीत का सुझाव है कि जीत करुणा या साहस के माध्यम से प्राप्त की जाती है, और किसी को हारने से डरना नहीं चाहिए।

“या कि शुद्ध भाल पर जला रहे विजय का लाल, लाल ये गुलाल तुम सोच लो” का अर्थ है कि युद्ध के मैदान में जीत का रंग लाल पाउडर की तरह फैल रहा है। गीत हमें जीत और सफलता के प्रतीक के रूप में जीत की कल्पना करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

“रंग केसरी हो या मृदंग केसरी हो, या की केसरी हो ताल तुम ये सोच लो” अर्थात जीत का रंग या तो भगवा हो सकता है या जीत की लय। गाने के बोल सुझाव देते हैं कि किसी को जीत की भावना पर ध्यान देना चाहिए न कि उसके रूप पर।

“जिस कवि की कल्पना में जिंदगी हो प्रेम गीत, उस कवि को आज तुम नकार दो” का अर्थ है कि जो कवि जीवन को एक प्रेम गीत के रूप में देखता है, उसे अस्वीकार कर देना चाहिए। गाने के बोल सुझाव देते हैं कि किसी को रोमांटिक भ्रम में खोने के बजाय जीवन की वास्तविकता पर ध्यान देना चाहिए।

“भगति मसन में आज, फूलती रागों में आज, जो आग की गोद का तुम बखर दो” का अर्थ है कि व्यक्ति को अपने दिलों में जुनून की आग जलानी चाहिए, और इसे अपने पूरे अस्तित्व में फैलने देना चाहिए। गीत हमें गले लगाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं|

Aarambh Hai Prachand Lyrics Meaning in English

The phrase “Aarambh hai prachand” is a Hindi phrase that translates to “The beginning is fierce” or “The start is powerful”. It is a line from a popular Hindi song called “Aarambh hai prachand” from the Bollywood movie, “Gulaal”. The song is written by Piyush Mishra and composed by Rahul Ram and Amit Kilam of the Indian fusion band Indian Ocean. The song’s lyrics evoke a sense of courage and determination, urging people to rise up and fight for their cause.

The first line of the song, “Aarambh hai prachand bol mastakon ke jhund” means “The beginning is fierce, speak up, O crowd of heads.” The line is a call to action, urging people to speak up and take action. The “crowd of heads” refers to a group of people who are united in their cause and are ready to fight for it. The phrase “bol mastakon ke jhund” emphasizes the importance of collective action and unity in the face of adversity.

The next line, “aaj jung ki ghadi ki tum guhaar do” means “Today, in this hour of war, give it your all.” The line is a call to arms, urging people to fight for what they believe in. The phrase “jung ki ghadi” refers to the critical moment of a battle, and “guhaar do” means to attack or strike with force.

The following line, “aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan” means “Whether it’s honor, courage, or the sacrifice of life.” The line emphasizes that the cause for which one is fighting is bigger than oneself. It’s about fighting for something greater than personal gain.

The next line, “aaj ik dhanush ke baan pe utaar do” means “Today, shoot an arrow from a bow.” The line is a metaphor for taking action and fighting for one’s cause. The “arrow” represents the force behind one’s actions, and the “bow” represents the strength needed to carry them out.

The repetition of the phrase “aarambh hai prachand” emphasizes the importance of a strong and powerful beginning. It’s a reminder that the first step towards any goal is often the most challenging but also the most important.

The next verse, “mann kare so praan de, jo mann kare so praan le, wahi toh ek sarvshaktimaan hai” means “Give your life to what your heart desires, whoever gives their life, becomes all-powerful.” The verse emphasizes that when one is passionate about a cause, they become unstoppable. The phrase “sarvshaktimaan hai” means “all-powerful,” and the verse emphasizes the power of following one’s heart.

The following lines, “vishv ki pukaar hai, yeh bhaagwat ka saar hai, ki yuddh hi veer ka pramaan hai” mean “This is the call of the world, this is the essence of Bhagavad Gita, that war is the proof of a warrior.” The lines refer to the Bhagavad Gita, an ancient Indian text that emphasizes the importance of duty and action. The verse highlights that fighting for what one believes in is the mark of a true warrior.

The next lines, “kauravo ki bheed ho ya paandavo ka neerd ho, jo lad saka hai woh hi toh mahaan hai” mean “Whether it’s the crowd of Kauravas or the power of the Pandavas, whoever fights is the true hero.” The lines highlight that one’s identity or social standing doesn’t matter.

“Jeet ki hawas nahi, kisi pe koi vash nahi” means that there is no desire for victory and no control over anyone else. The lyrics encourage us to fight without any selfish desires or the need to dominate others.

“Kya jindagi hai thokaro pe maar do” means that what kind of life is it if we are constantly being beaten down. The lyrics suggest that we should rise above our challenges and fight back.

“Maut ant hai nahi toh maut se bhi kyun darein, ye jaake aasmaan mein dahaad do” means that death is not the end, so why be afraid of it? Instead, the lyrics encourage us to roar like a lion and conquer the skies.

“Woh daya ka bhaav ya ki shaurya ka chunaab, ya ki haar ka woh ghabh tum yeh soch lo” means that one should focus on either compassion or courage, and not fear defeat. The lyrics suggest that victory is achieved through either compassion or courage, and that one should not be afraid of losing.

“Ya ki pure bhaal par jala rahe vijay ka laal, laal yeh gullal tum soch lo” means that the color of victory is spreading across the battlefield like red powder. The lyrics encourage us to visualize the victory as a symbol of triumph and success.

“Rang kesari ho ya mridang kesari ho, ya ki kesari ho taal tum yeh soch lo” means that the color of victory can be either saffron or the rhythm of victory. The lyrics suggest that one should focus on the feeling of victory rather than the form it takes.

“Jis kavi ki kalpana mein jindagi ho prem geet, uss kavi ko aaj tum nakaar do” means that the poet who imagines life as a love song should be rejected. The lyrics suggest that one should focus on the reality of life, rather than getting lost in romantic illusions.

“Bhigati mason mein aaj, phulati ragon mein aaj, jo aag ki lapat ka tum bakhaar do” means that one should light the fire of passion in their hearts, and let it spread to their entire being. The lyrics encourage us to embrace the heat and energy of life and let it drive us forward.

Overall, the lyrics of “Aarambh hai prachand” call for us to fight with courage, compassion, and determination, without any desire for personal gain or dominance. The song encourages us to embrace the challenges of life and rise above them, to visualize victory and let the fire of passion drive us forward.

Aarambh Hai Prachand Video Song with Lyrics

Aarambh Hai Prachand Video Song with Lyrics

You May Also Like These Latest Hindi Song Lyrics

Hi! I am Sonali. I am a teacher and I love to write and read. I also like to listen to good songs and review and write down the lyrics. I have three years of experience in writing lyrics. And I am posting this written song on Hinditracks.co.in website so that by reading the lyrics of this song you too can sing and make your heart happy.

Leave a Comment

Affiliate Disclosure – Some links on this site are Amazon associate links. As an Amazon Associate https://hinditracks.co.in may earn from qualifying purchases.Note – Amazon, Amazon Prime, the Amazon Logo and Amazon Prime logo are trademarks of Amazon.com,Inc or its affiliates.